मेरी दुनिया...

Wednesday, August 20, 2008

कुछ साज-तुम्हारे लिए......

(१)
डूबते चाँद का पता पूछो
एक मुसाफिर यहीं पे सोया है
नभ की खिड़की से सर टिका करके
जाने कौन सारी रात रोया है!

(2 )
तेरा ख्याल मेरे साथ लगकर सोया है
थपकियाँ देकर कहानी सुनाई है
लोरी गाकर चादर उढ़ाया है
पलकों और गालों को आँचल से पोंछा है
होठों पर संजीवनी रख दी है
शायद थोडी देर पहले यह रोया है
तेरा ख्याल साथ लगकर सोया है.....

(३)
जा रहा किस ओर तू
कुछ बोल पंछी
किस पिपासा को लिए ओ बावरा
दर्द जब इंसान हर पता नहीं
क्या हरेंगे फिर ये चंचल धवल बादल?

(४)
आओ आज की रात
हम दरवाजों को खुला छोड़ दें
खिड़कियों को बंद मत करें
हमारी अधीरता वह भांप ले
और लौट आए.............

12 comments:

Roli said...

bahut pahle college me ye panktiyan likhi thi maine kisi apne ke virah me " na pooch ki tujhe kaise bhulaya hai,teri yadon ko thapkiyan de-2 ke sulaya hai" . aadrniya amma ji ki kavita padh ke wahi udgar, wahi bhavnayen yaad aa gayin. sach hi to kaha hai na pant ji ne....virahi hoga pahla kavi....dard bolta hai tabhi kavita janam leti hai, jisne dard na saha ho wo kavi nahi ho sakta......

संत शर्मा said...

आओ आज की रात
हम दरवाजों को खुला छोड़ दें
खिड़कियों को बंद मत करें
हमारी अधीरता वह भांप ले
और लौट आए.............

Bahut khubsurat.

Anonymous said...

nabh ki khiki se sir tika ke, jane kaun sari raat roya hai........
bahut bahut suner.....
........anita

sangeeta said...

aapki ye sabhi rachnayen vilakshan hain.
nabh ki khidaki ka sundar prayog hai.
lori ko chaadar ka rupak anutha hai.
panchhi ki pyaas baadal bhi bujhane men asaksham hain.
adheerta batane ki adheerta achchhi lagi.

saadar

रंजना [रंजू भाटिया] said...

तेरा ख्याल मेरे साथ लगकर सोया है
थपकियाँ देकर कहानी सुनाई है
लोरी गाकर चादर उढ़ाया है
पलकों और गालों को आँचल से पोंछा है
होठों पर संजीवनी रख दी है
शायद थोडी देर पहले यह रोया है
तेरा ख्याल साथ लगकर सोया है...

सब बहुत अच्छी लगी .पर यह बहुत दिल के करीब है ..बहुत दिनों बाद आपका लिखा पढ़ा लिखती रहे

GOPAL K.. MAI SHAYAR TO NAHI... said...

वाह अम्मा जी बहुत अच्छी कविता लिखी है आपने..
अच्छा लगा पढ़कर..!!

Dr. RAMJI GIRI said...

चांद की गुफ़्तगु सारी कायनात से है,
ओस की बूंदों के दर्द मे मैं भी भटका हूं...

गीता पंडित (शमा) said...

आओ आज की रात
हम दरवाजों को खुला छोड़ दें
खिड़कियों को बंद मत करें
हमारी अधीरता वह भांप ले
और लौट आए.............

sach kahoon ....hatprbh hoon aapkee lekhanee bahut bol rahee hai "AMMAA"....
ITANE SUNDAR BHAAV ....NAMAN

कुश एक खूबसूरत ख्याल said...

होठों पर संजीवनी रख दी..

kitni sundar baat likhi hai.. manbhaavan..

masoomshayer said...

आओ आज की रात
हम दरवाजों को खुला छोड़ दें
खिड़कियों को बंद मत करें
हमारी अधीरता वह भांप ले
और लौट आए.............

advitiy

Anil

sakhi1909 said...

bahut acha likha hai..lekin har line mein kisi ka intzaar sa laga

Bandmru said...

जा रहा किस ओर तू
कुछ बोल पंछी
किस पिपासा को लिए ओ बावरा
दर्द जब इंसान हर पता नहीं
क्या हरेंगे फिर ये चंचल धवल बादल?

bahut khub ...
man khush ho gaya.
aaj se ye mera fev. blog ho gaya.